ब ल जर क मतलब

उन्होंने कहा कि इमारतों का बन जाना विकास नहीं होता। आम जनता तक सुविधाओं का पहुंचना वास्तविक विकास है। यदि ऐसा हो रहा है, तब कहा जा सकता है कि वास्तव में विकास हो रहा है। विकास सूचकांक में रामपुर छठे स्थान पर है तथा जन सुनवाई में जनपद को पहला स्थान मिला है। यह कागजों में ही नहीं, धरातल पर हो रहा है। बताया कि अब कोसी के संरक्षण पर भी काम होगा। इसके लिए 26 जनवरी से अभियान शुरू किया जाएगा। कोसी नदी के किनारे के गांवों की जिम्मेदारी प्रधानों को सौंपी जाएगी। नदी के किनारों को संरक्षित कर उन्हें सुंदर बनाने का कार्य किया जाएगा। वहां पर पौधे लगा कर किनारों का संरक्षण किया जाएगा। इसके अलावा खनन पर रोक लगाने के उपक्रम के अंतर्गत शीघ्र ही वैध पट्टों की कार्यवाही शुरू की जाएगी। आगे कहा कि लोग अब तक रामपुर को चाकू के नाम से जानते आए हैं। यहां की संगीत विरासत के विषय में कभी किसी ने नहीं सोचा। यहां के कलाकारों को दुनिया भर में जाना जाता है, लेकिन यहां के लोग उन्हें नहीं जानते। यह बहुत ही अफसोस कि बात है। इसको लेकर अब यहां के संगीत घरानों को प्रमोट करने का काम भी किया जाएगा। मनरेगा उपायुक्त भी हुए सम्मानित, पुरस्कार पाकर खिल उठे चेहरे
रबसेमिलीमुहब्‍बतकीनजरहैईदरमजानमाहकेबादईदउलफितरकात्‍यौहारजबरदस्‍तउत्‍साहऔररौनकलेकरआताहै।लोगोंकोइसकाबेसब्रीसेइंतजारहोताहै।