रब्स फुल फर्म इन मेडकल

साहिबगंज : देश में लॉकडाउन की घोषणा के बाद अपनों से बिछड़ने का दर्द साहिबगंज के होटलों में रहने वाले अतिथियों को समझ में आ रहा है। हालांकि सभी पीएम की घोषणा का सम्मान करते हैं। साहिबगंज के होटल कलिगा इंटरनेशनल के रूम नंबर 216 में ठहरे अतिथियों का दर्द जानने के लिए गुरुवार को पहुंचा। यहां चेन्नई के मिस्टर चिरंजीव व आंध्र प्रदेश के एस प्रह्लाद राव फंसे हुए हैं। दोनों भारतीय अंतरदेशीय जलमार्ग प्राधिकार के लिए एल एंड टी पोट्रेट सिप का काम कर रहे हैं। साहिबगंज आने के बाद अचानक पता चला कि प्रधानमंत्री की ओर से एक दिन का जनता क‌र्फ्यू लगाया गया है। बाद में लॉकडाउन की घोषणा कर दी गई। इतना सब कुछ अचानक हो गया कि वापस लौटने का मौका नहीं मिला। अपने परिवार से दूर रहने का उन्हें दर्द भी है परिवार से मिलने को बेचैन भी हैं। होटल में उनका रुटीन भी बदल गया है। वे वापस लौटना चाहते हैं परंतु कब स्थिति सामान्य होगी इसका अंदाजा नहीं है। कोरोना वायरस के संक्रमण से निपटने के लिए प्रधानमंत्री की घोषणा का सभी सम्मान करते हैं परंतु अगर दो दिन पहले भी घोषणा होती तो घर लौट गए रहते पर पीएम ने 14 अप्रैल तक लॉकडाउन की घोषणा कर दी। होटल में किसी प्रकार की दिक्कत नहीं होने पर भी सभी मायूस नजर आए। ज्यादातर लोग बिजनेस के सिलसिले में साहिबगंज आए हैं परंतु अचानक लॉक डाउन की घोषणा हो गई। इसके बाद से सभी ट्रेनें बंद हो गई हैं। जिले में कोरोना के फैलते संक्रमण को देखते हुए होटलों पर नगर प्रशासन की नजर है। बाहर से आकर होटलों में रहने वालों का रिकार्ड तैयार कर जिला प्रशासन को दे दिया गया है। इसके अलावा शहर के विभिन्न मुहल्लों में रहने वालों की जानकारी नगर परिषद जुटा रहा है इसके लिए नगर परिषद की ओर से टीम का गठन किया गया है।
जागरणसंवाददाता,मथुरा:नोटबंदीमेंकालाधनसफेदकरनेकेमामलेमेंफंसीगऊघाटस्थितआरएसबुलियनकीवाणिज्यकरविभागमेंचलरहीजांचकीनिगरानीशुरू
जागरणसंवाददाता,रोहतक:केंद्रीयवस्तुएवंसेवाकर(सीजीएसटी)केअधिकारियोंनेफर्जीफर्मबनाकरफर्जीवाड़ाकरनेवालोंकीधरपकड़केलिएजांचतेजकर